मैच (21)
IPL (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (6)
USA vs CAN (2)
Zonal Trophy [W] (1)
SA v SL (W) (1)
ख़बरें

साउदी: हम जीत से सिर्फ़ एक क़दम दूर रह गए

'सरफ़राज़ के कारण हमने देर से ली नई गेंद'

ड्रॉ ट्रॉफ़ी के साथ दोनों टीमों के कप्तान  •  Associated Press

ड्रॉ ट्रॉफ़ी के साथ दोनों टीमों के कप्तान  •  Associated Press

पाकिस्तान दौरे पर आए न्यूज़ीलैंड दल के सिर्फ़ एक सदस्य (बल्लेबाज़ी कोच ल्यूक रोंची) ने इससे पहले पाकिस्तान में क्रिकेट खेला था। टीम की कमान एक नए कप्तान टिम साउदी के हाथों में थी और वे विदेश में टेस्ट सीरीज़ जीत से बस एक क़दम दूर रह गए। दोनों टेस्ट अंतिम दिन तक गए और दोनों में चारों परिणाम (जीत, हार, ड्रॉ, टाई) संभव थे। लेकिन अफ़सोस सीरीज़ 0-0 के ड्रॉ पर समाप्त हुआ।

मैच के बाद साउदी ने कहा, "आप टेस्ट मैच जीतने के लिए खेलते हो और हम दोनों मैच जीतने की स्थिति में थे। हम सीरीज़ जीतने से बस एक क़दम दूर थे। 0-0 के परिणाम से मैं निराश हूं और मुझे लगता है कि पाकिस्तान भी निराश होगा। 10 दिन की मेहनत के बाद यह परिणाम निराशाजनक है। लेकिन निश्चित रूप से पिछले 10 दिनों में कुछ 'अच्छा क्रिकेट' खेला गया।"



'हमने सही समय पारी घोषित की'



जब अंपायर्स ने ख़राब रोशनी के कारण खेल को समाप्त घोषित किया, तब न्यूज़ीलैंड को सिर्फ़ एक विकेट की दरकार थी, वहीं पाकिस्तान सिर्फ़ 15 रन पीछे था। साउदी से जब पूछा गया कि क्या उन्होंने पारी घोषित करने में देरी कर दी, तब उन्होंने जवाब दिया, "अंतिम समय तक पिच पर बल्लेबाज़ी करना आसान था। इसलिए आप उनको अधिक ओवर और कम रन नहीं दे सकते थे। हमने चौथे दिन 2.5 ओवर में ही दो विकेट झटक लिए थे और यह हमारे लिए बढ़िया शुरुआत थी। जब आप पीछे देखते हैं तो लगता है कि आप उस वक़्त और बेहतर कर सकते थे, लेकिन उस समय हमने जो निर्णय लिया, उस पर हम अब भी कायम हैं।"

'सरफ़राज़ की वजह से हमने दूसरी नई गेंद देरी से ली'



न्यूज़ीलैंड की जीत की राह में सरफ़राज़ अहमद सबसे बड़ा रोड़ा बने। लगभग चार साल बाद पाकिस्तानी टीम में वापसी कर रहे सरफ़राज़ ने ना सिर्फ़ शतक जड़ा बल्कि 67 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए। जब वह बल्लेबाज़ी कर रहे थे तब पाकिस्तान का स्कोर एक समय 80 ओवर में छह विकेट पर 267 रन था और वे लक्ष्य से सिर्फ़ 52 रन पीछे थे। तब नई गेंद उपलब्ध थी, लेकिन साउदी ने नई गेंद नहीं ली।

इसका कारण गिनाते हुए उन्होंने कहा, "उस समय क्रीज़ पर सरफ़राज़ और आग़ा सलमान टिक कर खेल रहे थे और तेज़ी से रन बना रहे थे। सरफ़राज़ ने पूरे दिन बल्लेबाज़ी की थी, इसलिए हमने नई गेंद लेने में देरी की। अगर हम नई गेंद लेते तो उनके बल्ले पर आसानी से गेंद आती और उन्हें रन बनाने में आसानी होती। हम उस समय वह साझेदारी तोड़ने की कोशिश कर रहे थे। जब साझेदारी टूटी, तब हमने नई गेंद ली, इसके बाद हमें दो और विकेट मिला।"

कराची के दर्शकों से ख़ुश हैं न्यूज़ीलैंड कप्तान



उन्होंने कहा, "भले ही दोनों मैच और सीरीज़ ड्रॉ हुए हो, लेकिन दोनों मैच रोमांचक थे और मुझे लगता है कि दर्शकों ने भी इसका भरपूर लुत्फ़ उठाया। हमने यहां पर अपने समय का भरपूर मनोरंजन किया और हमारा जमकर स्वागत-सत्कार हुआ। अब हमारी नज़र वनडे सीरीज़ पर है।"

अलगप्पान मुथु ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं